Thursday, August 10, 2017

मीर रंजन नेगी पर फिल्म चक दे इंडिया के १० साल

शाहरुख़ खान के साथ १६ युवा अभिनेत्रियां ! किस फिल्म में थी ? जी हाँ, सही याद आया ! फिल्म थी चक दे इंडिया ! यह फिल्म १० अगस्त २००७ को रिलीज़ हुई थी।  फिल्म काल्पनिक भारतीय हॉकी टीम के कप्तान कबीर खान की थी। वह पाकिस्तान के साथ वर्ल्ड कप मैच में आखिरी समय में मिली पेनल्टी को गोल में डालने में असफल हो जाता है। भारत शून्य एक गोयल से हार जाता है।  नतीजतन, उस पर पाकिस्तानी होने का लेबल चिपक जाता है।  उसका हॉकी करियर ख़त्म हो जाता है।  यह कहानी याद दिलाती है १९८२ के एशियाई खेलों की, जिसमे पाकिस्तान के साथ हॉकी मुक़ाबले  में भारत को १-७ की करारी शिकस्त मिली थी।  उस समय गोल पोस्ट पर मीर रंजन नेगी थे।  उन पर पाकिस्तान से पैसे ले कर जानबूझ कर गोल करवाने का आरोप लगा था।  मीर रंजन की इस कहानी से कबीर खान की कहानी इस लिहाज़ से अलग थी कि मीर रंजन नेगी की १९९८ के एशियाई गेम्स में बतौर कोच वापसी हुई थी और भारतीय टीम ने गोल्ड जीता था।  नेगी २००२ के कामनवेल्थ गेम्स में गोलकीपर कोच और २००४ में एशिया कप जीतने वाली महिला हॉकी टीम के सह कोच थे।  हालाँकि, शिमिट अमीन कहते हैं कि उनकी कहानी का कबीर खान मीर रंजन नेगी से प्रेरित नहीं है।  लेकिन, इस फिल्म को देखा और प्रचारित इसी रूप में किया गया कि यह नेगी की कहानी है।  वैसे अगर शिमिट कबीर खान को नेगी ही (मुसलमान नहीं हिन्दू ही) बना रहने देते तो क्या फर्क पड़ जाता, सिवाय इमोशनल अत्याचार के! नेगी पर भी तो पाकिस्तानी उच्चायोग जा कर पैसे लेने का आरोप लगा था। इस फिल्म ने शाहरुख़ खान को सशक्त अभिनेता बनाया।  लेकिन, उनकी १६ हॉकी खिलाड़ियों का अभिनय करने वाली (चित्रांशी रावत, अनीता नायर, शिल्पा शुक्ल, तान्या अब्रोल, आर्य मेनन, शुभि मेहता, किमी लालदावला, मसोचों जिमिक, संदिआ फुर्टडो, निचोला सेक्वेरा,  सागरिका घाटगे, किम्बर्ली मिरांडा, सीमा आज़मी, रेनिअ मस्केरहनेस, निशा नायर और विद्या मालवाडे)  में से कोई एक भी अभिनेत्री बॉलीवुड में अपना नाम स्थापित नहीं कर सकी।  यूगांडा में जन्मे शिमिट अमीन का करियर भी कोई ठौर नहीं लग सका।  अलबत्ता २० करोड़ में बनी इस फिल्म ने यशराज फिल्म्स को १२७ करोड़ वापस दिलवा दिए।  वैसे यह भी बताना समीचीन होगा कि फिल्म के हॉकी के मैदान के तमाम  रोमांचक मैच रॉब मिलर ने निर्देशित  किये थे।  

Carnival Motion Pictures join hands with Sanjay Raut to co-produce Thackeray

From his humble beginnings as a cartoonist with The Free Press Journal to grow to emerge as a supreme political leader the first voice ...